चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Wednesday, August 1, 2007

अलविदा मित्रों

अलविदा दोस्तों आज मै आप सब लोगों से विदा लेती हूँ कुछ समय उपरांत मै अवश्य लौट कर आऊंगी आपकी हमारी इस छोटी सी दुनिया में मगर अब मुझे कुछ जरूरी काम करने हैं यही समय है जब मेरा चाय का बिजिनेस पुरे जोरो पर होता है...अतः अब मुझे ६ महिने का ब्लागर्स की दुनिया से अवकाश चाहिये...मै जानती हूँ मै आप सभी को बहुत miss करूंगी मगर मेरा एक कर्तव्य अपने पति और बच्चों के प्रति है,आप लोगो से बस एक निवेदन है मुझे भूल मत जाना मै फ़िर लौट कर आऊंगी...और हाँ अगर हो सका तो कविताओं पर कभी-कभार टिप्पणी अवश्य करूंगी...मगर मै 6 महिने तक कोई कविता नही लिख पाऊँगी.............

आपके प्यार और स्नेह के लिये बहुत-बहुत आभारी हूँ

आपकी सुनीता(शानू)

19 comments:

  1. will miss u for sure.. hope to c u soon again. all the best..

    ReplyDelete
  2. अरे दीदी कहां चल दीं... मैं खुद ब्लोग और कविता को बिल्कुल वक्त नहीं दे पा रहा... कभी कभी कुछ सपने देखने के लिये कुछ सपने छोड़ने भी पड़ते हैं...

    ReplyDelete
  3. आपकी कविताओ का इंतजा़र रहेगा ...

    हमारी शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  4. शुभकामनायें. जल्दी वापस आयें. इन्तजार रहेगा.

    ReplyDelete
  5. हम आपका इंतजार करेंगे।

    ReplyDelete
  6. आपकी प्रतिक्षा रहेगी।शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  7. चाय की पत्तियों के साथ लौटते वक्त कुछ अहसास भी चुन लाना....उन्ही को फिर थोड़ी अदा के साथ परोस देना।

    ReplyDelete
  8. आपका इंतजार....

    ReplyDelete
  9. मन पखेरू फ़िर उड़ चला...:):) कहां चल दी सुनीता जी:):).....दूर आप रह ना सकोगी यह हम जानते हैं
    समय समय पर अपनी दस्तक देती रहें ..अच्छा लगेगा..:):)

    ReplyDelete
  10. सुबह -सुबह ऐसी ख़बर।

    आपका इंतज़ार रहेगा !!

    ReplyDelete
  11. कुछ पतियां ,
    ताज़ा,
    चाय की ,
    अपनी महक के साथ
    लेती आना
    प्याले से मन
    खाली हैं,
    आतुर हैं,
    छलक जाने को ।
    सस्नेह --
    सुजाता

    ReplyDelete
  12. ये भी जरुरी है,पर कोशिश करना यात्राओ के बीच लिखी कविता को पोस्ट करने की ,यात्रा संसमरण भी..बेशक इंक ब्लोगिंग का प्रयोग करो..:) बेहतर व्यापार के लिये शुभ कामनाये..

    ReplyDelete
  13. सुनीता (शानू) ये आप क्‍या कर रही हैं? जा रही हैं? हैं! और कविताएं? हम कहां पढ़ेंगे! पढ़े बिना कैसे रहेंगे? आपको लगता है छह महीने कम होते हैं? आदमी (या औरत) इतने दिन कविताओं के बिना रह पाएगा? और रह पाया तो वह फिर आदमी (या औरत) रहेगा? कविताएं लिखते समय आपको सोचना चाहिए था कि आगे एक समय छह महीने वाला समय भी आएगा जब कविताएं नहीं होंगी, आपके पति और बच्‍चे होंगे! क्‍या अजीब उलझन खड़ी कर दी आपने? मगर जा कहां रही हैं? थाइलैंड या जापान? आपकी जगह भरने की कोशिश करुंगा.. करुं?

    ReplyDelete
  14. ए लो कल्लो जी बात। ये क्या बात हुई भला, कविता नई लिखोगी आप तो खाना पच जाएगा?

    चलो जल्दी से एकाध कविता चढ़ाओ ब्लॉग़ पे!!
    अपन वेट रहे हैं

    ReplyDelete
  15. आपका फ़ैसला शिरोधार्य, शुभकामनायें

    ReplyDelete
  16. सुनीता जी,
    पारिवारिक दायित्‍व का निर्वहन आवश्‍यक है साथ ही व्‍यवसाय भी आवश्‍यक है, आप इन दोनों के लिए अपना समय देना चाहती हैं तो बहुत अच्‍छी बात है, पर हम यह नहीं समझ पा रहे हैं कि इससे पहले क्‍या आप इन दोनों के लिए समय नहीं दे पा रही थीं, यदि नहीं दे पा रही थीं सिर्फ कविता और व्‍लाग को ही समय दे रही थी तो यह दायित्‍वों के प्रति नाइंसाफी थी ।

    वैसे जहां तक मेरे चिट्ठाजगत में जो अनुभव हैं उसके अनुसार से कहूं तो परिवार, व्‍यवसाय एवं ब्‍लाग के साथ जीवन और समय का सामन्‍जस्‍य बिठाना ही पडता है, यह स्‍वाभाविक रूप से बैठता नही है ।

    हमारी शुभकामनायें कि आप वर्षा और शरद का आनंद लेवें, परिवार में सुख बांटें, बीच के क्षणों में भावातिरेक को शव्‍दों में बांधें, योंकि परिवार जीवन की एक सुन्‍दर कविता हे, जिसे कवि मन ही समझ सकता है ।

    पुन: शुभकामनायें । हम सब आपको आद करते रहेंगें ।

    संजीव

    ReplyDelete
  17. अरे काम के साथ लिखना जारी रखिये। न हो तो इकब्लागिग करिये।

    ReplyDelete
  18. Will wait for you. All the best and have good time and business.

    ReplyDelete
  19. आपका E मेल पता भेजें.
    360 मेल से आपको मेल भेजने में दिक्कत है आपकी मेल मिल तो रही है जा नहीं रही है.
    कविता के बिना आपका रहना मुश्किल है.
    बकौले वशीर बद्र-
    मुझसे बिछड़ कर खुश रहते हो.
    मेरी तरह तुम भी झूटे हो.
    डॉ.सुभाष भदौरिया.

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...