चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Monday, February 4, 2013

मेरा पहला काव्य-संग्रह...



सुप्रभात मित्रों,

जाने कब से मेरे दोस्त, मेरे अपने मुझसे सवाल कर रहे थे कि मै अपनी कविताओं को संग्रह का रुप कब दूँगी। हर बार बुक फ़ेयर में पहला सवाल यही होता था कि मेरा संग्रह कब आयेगा। जिसकी खबर खुद मुझे भी नही थी। परन्तु मेरे दोस्तों का स्नेह उनकी दुआएं जल्दी ही रंग लाई और मेरा काव्य संग्रह आप सबके सामने हाज़िर है :) लेकिन अब भी एक बात बाकी है वो है आप सबसे मेरा वादा... तो दोस्तों आप सब तैयार हो जायें जल्द ही एक छोटा सा सम्मेलन किया जायेगा और कुछ गणमान्य  पुस्तक का विमोचन करेंगे। मै चाहती हूँ आप सभी मेरे मित्रजन उपस्थित रह कर आयोजन की गरिमा को बढ़ायेंगे। मार्च महिने में ही किसी विशेष तारीख को यह आयोजन रखा जायेगा। जल्दी ही मिलते हैं आप मै और आपकी हमारी कविताएं...

नमस्कार
सुनीता शानू

18 comments:

  1. हार्दिक बधाई और शुभकामनायें सुनीता जी :) इंतज़ार रहेगा।

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत बधाई ..... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. काश हम भी आ पाते ..बहुत बहुत शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत बधाई....
    शुभकामनाएं...
    :-)

    ReplyDelete
  5. प्रथम प्रकाशन पर बहुत बधाई।
    शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  6. प्रथम प्रकाशन पर बहुत बधाई।
    प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete
  7. हार्दिक बधाई !
    संग्रह का नाम तो बता ही दीजिए,

    ReplyDelete
  8. हार्दिक शुभकामनायें .... घणी-घणी बधाई

    ReplyDelete
  9. घणी घणी बधाइयाँ ! विमोचन समारोह का इंतजार रहेगा |
    Gyan Darpan

    ReplyDelete
  10. क्या बात है , बहुत बधाई और शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  11. बहुत बधाई और शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  12. बहुत बधाई और शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  13. इंतज़ार खत्म हुआ ......

    बहुत बहुत शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  14. हार्दिक शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...