चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Sunday, January 20, 2013

आँखें




आँखें

होंठ चुप रहें सवाल पूछती हैं आँखें
देखें कैसे बेहिसाब बोलती हैं आँखें
मौन ठहरा है दोनों के बीच में मगर
खामोशियों को फिर भी तोड़ती हैं आँखें...

शानू

23 comments:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 23/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. और क्या क्या कहती है ये आँखे :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. खुद ही समझ लो अंजू जी :)

      Delete
  3. किसकी हैं ये आखें, बहुत खूबसूरत हैं ये आँखें!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुनीता जी की ही लगती हैं।

      Delete
    2. शुक्रिया डॉ साहब दोस्त हैं तो पहचान ही लेंगे... :) अज़नबी की तरह सवाल तो न होंगे :)

      अरविंद जी पहचानने की कोशिश कीजिये...अरे हाँ आपका चश्मा कहाँ है? :)

      Delete
  4. तस्वीर से झर रहा है यह मुक्तक।
    उम्दा। .

    ReplyDelete
  5. दिल का राज खोलने लगती है,
    निगाहें जबभी बोलने लगती हैं।
    उम्दा शानू जी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या बात है शुक्रिया गोदियाल साहब।

      Delete
  6. बहुत ही प्यारी बात कही है आपने ...
    बहुत खूब।।
    :-)

    ReplyDelete
  7. वाकई सुनिता जी,आँखों की भाषा भी बडी अजीब है-बिना कुछ कहे ही बहुत कुछ कह देती हैं,शर्त ये है कि उन आँखों को देखने वाली आँखें भी वह भाषा समझती हों! सारगर्भित रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये तो सच है देखने वाले की आँखें भी समझती हों...लेकिन एक और बड़ा सच है कविता सिर्फ़ कल्पना ही नही होती कुछ होता है तो कविता बनती है तो समझिये कि भाषा समझने वाला भी है उन्ही पर लिखी है ये पंक्तियाँ :)

      Delete
  8. खामोश आँखें बहुत कुछ कहती हैं ...

    ReplyDelete
  9. आँखें बहुत कुछ बोलती हैं ....

    ReplyDelete
  10. जी हाँ आँखें दिल की जुबाँ होती हैं...

    ReplyDelete

  11. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete
  12. बोलती आंखें, गुनगुनाती आंखें, बिना होंठों के फुसफुसाती आंखें,
    आखों की भाषा है अलग ,
    बिना भाषा के नयी परिभाषा हैं आंखें..

    बेहतरीन ...

    ReplyDelete
  13. वाह .... बहुत खूब .... आज कल कहाँ हैं आप ?

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...