चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Tuesday, June 26, 2007

दर्द का रिश्ता

NARAD:Hindi Blog Aggregator






तेरा मेरा रिश्ता,
लगता है जैसे...
है दर्द का रिश्ता,
हर खुशी में शामिल होते है,
दोस्त सभी
परन्तु
तू नहीं होता,
एक कोने में बैठा,
निर्विकार
सौम्य
मुझे अपलक निहारता
और
बॉट जोहता
कि
मै पुकारूँ नाम तेरा...
मगर
मै भूल जाती हूँ,
उस एक पल की खुशी में,
तेरे सभी उपकार,
जो तूने मुझ-पर किये थे,
और तू भी चुप बैठा
सब देखता है,
आखिर कब तक
रखेगा अपने प्रिय से दूरी,
"अवहेलना"
किसे बर्दाश्त होती है,
फ़िर एक दिन,
अचानक
आकर्षित करता है,
अहसास दिलाता है,
मुझे
अपनी मौजू़दगी का,
एक हल्की सी
ठोकर खाकर
मै
पुकारती हूँ जब नाम तेरा,
हे भगवान!
और तू मुस्कुराता है,
है ना तेरा मेरा रिश्ता...
लगता है जैसे,
दर्द का रिश्ता...

सुनीता(शानू)

24 comments:

  1. "अवहेलना
    किसे बर्दाश्त होती है"

    सत्य है....! भगवान् भी इससे अछूते नही। तभी तो.....दर्द का यह रिश्ता अनुपम है। बधाई।

    ReplyDelete
  2. "हर खुशी में शामिल होते है,
    दोस्त सभी
    परन्तु
    तू नही होता,
    एक कोने में बैठा,
    निर्विकार
    सौम्य
    मुझे अपलक निहारता
    और
    बाट जोहता कि,
    मै पुकारू नाम तेरा..."


    बहुत अच्छा लिखा है शानू जी

    ReplyDelete
  3. a nice way to remember HIM

    ReplyDelete
  4. भगवान के माध्यम से अपने रिश्ते और अपना ही पुनरावलोकन कराती सी प्रतीत होती एक बढ़िया रचना!!
    शुक्रिया!

    ReplyDelete
  5. एक विश्वास का रिश्ता जी दिल की गहराई को छूता है ..
    आपके लफ़्ज़ो में सुंदर रूप से दिखा ,,बधाई।

    ReplyDelete
  6. टूटी कविताओ में जब भावनाओं का रंग बिखरता है तो दिल को छू लेने वाला भाव अभिव्यक्त होता है ! शानू जी आपकी कविता का नायक तो सभी का चितेरा नायक है उसके प्रेम ने मीरा को कवित्री बना दिया था ! आपने भगवान और भक्त के प्रेम के एक अलग रूप व्यवहार का चित्रण किया है जो सबके अंतरमन मे हिलोरे मार रहा है ! साधुवाद

    ReplyDelete
  7. सचमुच सुनीता जी, भगवान से मनुष्य का रिश्ता आप ही के शब्दों में दर्द का रिश्ता है. हम लोग सुख में उसे भूल जाते हैं और दुख हमें फिर उसी के पास ले जाता है. भुत सुंदर और भावपूर्ण रचना.
    हार्दिक अभिनंदन.

    ReplyDelete
  8. हे भगवान!
    और तू मुस्कुराता है
    है ना तेरा मेरा रिश्ता
    लगता है जैसे
    दर्द का रिश्ता...

    बहुत गहरा आध्यात्म है।

    *** राजीव रंजन प्रसाद

    ReplyDelete
  9. शानू जी सुन्दर रचना है

    भगवान भगतों से कभी दूर नहीं होते.. बस कुछ कर्म वश ही हम ठोकर खाते हैं परन्तु पीडा इश्वर को हमसे अधिक होती है

    ReplyDelete
  10. उनसे मुह्ब्बत....मीरा का स्पंदन....सूफ़ीमय यात्रा....उपकार..अवहेलना...मानव चेतना.उनके हेतु समर्पण का इनसे क्या लेना-देना.
    -Dr.RG

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति की है, रिश्ते की. और वो भी दर्द का रिश्ता. अति सुन्दर. इस रचना के लिये आप बधाइ की पात्र है

    ReplyDelete
  12. hamesha ki tarah aap ki ye rachna bhi man ko chhoo gayee. bahut sundar abhivyakti ki hai riste ki.. badhai.

    Akash

    ReplyDelete
  13. कविता जिस तरीके से यह प्रूफ़ करती है कि साधक और साध्य के बीच जो रिश्ता है वो दर्द का रिश्ता है, काफ़ी बेहतरीन है।

    ReplyDelete
  14. पुकारती हूँ जब नाम तेरा,
    हे भगवान!
    और तू मुस्कुराता है,
    है ना तेरा मेरा रिश्ता...
    लगता है जैसे,
    दर्द का रिश्ता...


    बहुत बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
  15. पुकारती हूँ जब नाम तेरा,
    हे भगवान!
    और तू मुस्कुराता है,
    है ना तेरा मेरा रिश्ता...
    लगता है जैसे,
    दर्द का रिश्ता...

    सच मे ये दर्द का ही रिशता है

    ReplyDelete
  16. waah kyaa sanwaad rachaa hai usse jisse kuch bhi chipa nahi hai

    ReplyDelete
  17. सच है, दर्द भी है, एक अन्जाना सा रिश्ता भी है

    ReplyDelete
  18. पुकारती हूँ जब नाम तेरा,
    हे भगवान!
    और तू मुस्कुराता है,
    है ना तेरा मेरा रिश्ता...
    लगता है जैसे,
    दर्द का रिश्ता...

    ---बहुत खुबसूरती से बात कही है, वाह!! अद्भुत!! बधाई.

    ReplyDelete
  19. मान कर जिन पत्थरों को देवता हम पूजते हैं
    प्राण उनमें सत्य केवल इक पुजारी पा सका है

    ReplyDelete
  20. वो कहते है न की ईश्वर को यह भी जरुरत नहीं होती कोई उसकी अराधना करे या न करे वह तो परम दयालु है महान पिता…।
    मन तो मन है इसे पखेरू न कहें बस उड़ चलता है बिना दिशा बोध के…
    बहुत अनुरागी कविता है…निराकार के प्रति प्रेम की अद्भुतता…।

    ReplyDelete
  21. एक हल्की सी
    ठोकर खाकर
    मै
    पुकारती हूँ जब नाम तेरा,
    हे भगवान!
    और तू मुस्कुराता है,
    है ना तेरा मेरा रिश्ता...
    लगता है जैसे,
    दर्द का रिश्ता...
    ek behatareen baa hai poore kavia main adhyatm he adhyatm hai

    ReplyDelete
  22. एक हल्की सी
    ठोकर खाकर
    मै
    पुकारती हूँ जब नाम तेरा,
    हे भगवान!
    और तू मुस्कुराता है,
    है ना तेरा मेरा रिश्ता...
    लगता है जैसे,
    दर्द का रिश्ता...
    BADHAI....

    ReplyDelete
  23. एक हल्की सी
    ठोकर खाकर
    मै
    पुकारती हूँ जब नाम तेरा,
    हे भगवान!
    और तू मुस्कुराता है,
    है ना तेरा मेरा रिश्ता...
    लगता है जैसे,
    दर्द का रिश्ता...
    AASTHA KA SAJEEV CHIRAN HAI

    ReplyDelete
  24. है ना तेरा मेरा रिश्ता
    लगता है जैसे
    दर्द का रिश्ता...

    बहुत गंभीर वार्तालाप कर लिया आपने तो प्रभु से
    बहुत अच्छा

    सस्नेह
    गौरव शुक्ल

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...