चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Friday, June 29, 2007

हे अमलतास

हे अमलतास

तपती धरती करे पुकार,

गर्म लू के थपेड़ों से,

मानव मन भी रहा काँप

ऐसे में निर्विकार खड़े तुम

हे अमलतास।


मनमोहक ये पुष्प-गुच्छ तुम्हारे,

दे रहे संदेश जग में,

जब तपता स्वर्ण अंगारों में,

और निखरता रंग में,

सोने सी चमक बिखेर रहे तुम

हे अमलतास।

गंध-हीन पुष्प पाकर भी,

रहते सदा मुसकाते,

एक समूह में देखो कैसे,

गजरे से सज जाते,

रहते सदा खिले-खिले तुम

हे अमलतास

हुए श्रम से बेहाल पथिक,

छाँव तुम्हारी पाएँ,

पंछी भी तनिक सुस्ताने,

शरण तुम्हारी आयें,

स्वयं कष्ट सहकर राहत देते

हे अमलतास।

बचपन से हम संग-संग खेले,

जवाँ हुए है साथ-साथ,

झर-झर झरते पीले पत्तों सा,

छोड़ न देना मेरा हाथ,

हर स्वर्णिम क्षण के साथी तुम

हे अमलतास।

सुनीता(शानू)

24 comments:

  1. यह हम अनुभूति में पढ़ चुके हैं एक बार और मन ही मन वाह वाह भी कर चुके हैं और आज फिर से पढ़ा तो लिख कर किये दे रहे हैं-वाह, बहुत बढ़िया. :)

    ReplyDelete
  2. जिए तो अपने बगीचे में गुलमुहर के तले
    मरे तो ग़ैर की गलियों में गुलमुहर के लिए
    दुष्यंत कुमार

    ReplyDelete
  3. अच्छा लिखा.. अमलतास का जादू होता है कुछ खास..

    ReplyDelete
  4. Dr Manohar Lal Sharma who is no more was a brother to me and was a very good hindi writer and poet from Himachal . He has written a very beautiful line about अमलतास
    "बनन मे छिटक रही छटा अमलतास की "
    your poem reminded me of him

    ReplyDelete
  5. अमलतास के माध्यम से आपने शब्दों का जाल बुनते हुए एक अच्छी अभिव्यक्ति की है।
    बधाई!

    पहले पढ़ी जरुर थी यह रचना अनुभूति पर!!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर । चित्र भी सुन्दर है ।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  7. सुनीता जी बधाई । सजीव प्राकृतिक तत्‍वों से मनुष्‍य का बडा गहरा नाता है । आपने अमलतास को अपनी भावनाओं में बसा कर बडे ही सुन्‍दर शव्‍दों में जीवन की सुंदरता के साथ कविता के रूप में प्रस्‍तुत किया है । स्‍वयं घूप से तपकर पंथी पंछी को राहत देने का भाव और उस भाव को परख कर शव्‍दों का रूप देने का कार्य जो आपके कवित्री मन नें किया है उसके लिए धन्‍यवाद । संपूर्ण कविता सुन्‍दर अमलतास ।

    ReplyDelete
  8. इसको अनुभूति मैं पढ़ा था मैने ..बहुत सुंदर रचना लगी है आपकी सुनीता जी ...अमलतास का जादू आपकी रचना में घुल गया है

    ReplyDelete
  9. अमलतास के माध्यम से आपने जो बात कही है, वास्तव मे उच्च कोटि की है।
    कहीं प्रकृति प्रेम तो कहीं श्रंगार, तो कहीं परोपकार का संदेश देती यह रचना वास्तव मे तारीफ के काब़िल है ।
    अपनी दीदी को बधाई प्रेषित करते हुये मन हर्षित है ।
    आर्यमनु ।

    ReplyDelete
  10. आपका अमलतास वास्तव में बहुत सुन्दर है
    बधाई

    सस्नेह
    गौरव शुक्ल

    ReplyDelete
  11. छोड़ न देना मेरा हाथ,

    हर स्वर्णिम क्षण के साथी तुम

    हे अमलतास।

    बहुत सून्‍दर भावाभिव्‍यक्ति है ।

    ReplyDelete
  12. खूबसूरत अहसास जगाती हुई कविता.अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  13. अनुभूति में पढ़ने के बाद आज फिर यहां पढ़ने में वही आनंद मिला। बहत सुंदर रचना है।

    ReplyDelete
  14. इतनी गर्मी मे ठंडक पहुँचाती हुई यह कविता , बहुत बढिया !

    ReplyDelete
  15. आपकी यह रचना अनुभूति पर पढ़ चुका हूँ :)

    अमलतास का जादू खूब छाया है आप पर, हर जगह यही दिख रहा है :)

    बधाई!!!

    ReplyDelete
  16. एक वृक्ष को हृदय आवृति में बांधकर आपने बहुतों के पक्ष को सरलता से कह दिया…मन में तैरती संवेदना को परिस्थिति-संयम- जुझने की क्षमता,सभी को उम्दा ढंग से उजागर किया है यहां पर…बहुत खुब!!!

    ReplyDelete
  17. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 01-09 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ... दो पग तेरे , दो पग मेरे

    ReplyDelete
  18. हुए श्रम से बेहाल पथिक,
    छाँव तुम्हारी पाएँ,
    पंछी भी तनिक सुस्ताने,
    शरण तुम्हारी आयें,
    स्वयं कष्ट सहकर राहत देते ...

    बहुत ही खुबसूरत रचना...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर भाव ... आपका प्रकृति प्रेम भी उजागर हुआ ..

    ReplyDelete
  20. झर-झर झरते पीले पत्तों सा,

    छोड़ न देना मेरा हाथ,

    हर स्वर्णिम क्षण के साथी तुम

    हे अमलतास।

    बेहद खूबसूरत कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  21. बहुत भावुक कर गयी आपकी रचना ! याद दिला गयी अपने घर के विशाल अमलतास के वृक्ष की जो मेरा विशिष्ट रूप से प्रिय वृक्ष था और जो कीड़ा लग जाने कारण खतरनाक हो गया था और इसीलिये उसे अनिवार्य रूप से कटवाना पड़ गया ! लेकिन उस पर होने वाला हर प्रहार मेरे मन पर गहरा आघात कर रहा था ! आज भी उस वृक्ष की तस्वीरें मेरे पास सुरक्षित हैं ! आभार !

    ReplyDelete
  22. बहुत खूब ..प्रकृति से अनुनय विनय ...प्रकृति प्रेम से परिपूर्ण अभिव्यक्ति ..सादर शुभकामनायें !!!

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...