चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Monday, April 9, 2007

बेचैनी

प्यार में अक्सर दिल बेचैन होता है,...
यादों में दिलबर के दिल का चैन खोता है...

एक अकुलाहट, बेताबी सी रह्ती है सीने में,
एक झुन्झलाहट,छ्टपटाहट रहती है जीने में,

व्याकुल तन-मन इस कदर अधीर होता है,
यादों में दिलबर के दिल का चैन खोता है...

एक रौला,एक हलचल में,होंठ खुले रह जाते हैं
बिन बोले हि बात अधूरी सी कह जाते हैं

बेचैन निगाहों में आसुँओ का सैलाब होता है,
यादों में दिलबर के दिल का चैन खोता है...

बन्द पिन्जर में पन्छी सा मन फ़ड़फ़ड़ाता है
चलते-चलते राह पथिक सब भूल जाता है,

इन्तजारे,बेताबी में तिलमिलाना भी खूब होता है,
यादों में दिलबर के दिल का चैन खोता है...

सुनिता(शानू)

11 comments:

  1. चलते-चलते राह पथिक सब भूल जाता है,
    इन्तजारे,बेताबी में तिलमिलाना भी खूब होता है,

    vaah , bhaut achcha hai

    ReplyDelete
  2. Your poems are a true reflection of human nature. They reflect a comprehensive understanding and visionary expression of our way of life. Well done and keep it up. May victory be yours always!

    ReplyDelete
  3. दिले बेताब को सीने से लगाना होगा
    आज पर्दा है तो कल सामने आना होगा

    बहुत अच्छा लिखा है आपने दिल की बेताबी के बारे मे‍

    ReplyDelete
  4. आलोक जी, रमेश जी,मोहिन्दर जी बहुत बहुत धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  5. सुनीताजी आपकी कविता अच्छी लगी लिखती रहें......

    ReplyDelete
  6. स्वागत है आपका सुनीता जी हिन्दी चिट्ठाजगत में।

    नए चिट्ठाकारों के स्वागत पृष्ठ पर भी जाएं।

    इसके अतिरिक्त परिचर्चा की सदस्या बनकर महफिल को भी रोशन करें।

    ReplyDelete
  7. हिंदी चिठ्ठा जगत में आपका स्वागत

    ReplyDelete
  8. दिल की बैचेनी को बखुबी बयां करती है आपकी रचना. किस तरह कोई प्रेयसी अपनी मन की भावनाओ का आवेश अनुभव करती है और क्या पिडा महसुस करती है , इसका अच्छा चित्रण है |

    ReplyDelete
  9. बेचैन निगाहों में आसुंओ का सैलाब होता है,
    यादों में दिलबर के दिल का चैन खोता है...

    बन्द पिन्जर मे पन्छी सा मन फ़ड़फ़ड़ाता है
    चलते-चलते राह पथिक सब भूल जाता है,

    bahut khoob ,,too good lines

    ReplyDelete
  10. "बन्द पिन्जर में पन्छी सा मन फ़ड़फ़ड़ाता है
    चलते-चलते राह पथिक सब भूल जाता है,"

    ह्म्म्म्म्म्,
    गंभीर भाव बहुत सुन्दरता से व्यक्त कर दिये आपने
    आप तो इस विधा में भी पारंगत हैं

    सस्नेह
    गौरव शुक्ल

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...