चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Sunday, July 30, 2017

सैंड टू ऑल




सैंड टू ऑल की गई
तुम्हारी तमाम कविताओं में
ढूँढती हूँ वो चंद पंक्तियाँ
जो नितान्त व्यक्तिगत होंगी
जो लिखी गई होंगी
किसी ख़ास मक़सद से
किन्हीं ख़ास पलों में
सिर्फ मेरे लिये
नहीं होगा उन पर
किसी और की वाह वाही का ठप्पा भी
लेकिन
सैंड टू ऑल की गई सारी कवितायें
बिछी पड़ी हैं सबके आगे
सुनो!
कुछ नया लिखो न
सिर्फ मेरे लिये...
शानू

5 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (31-07-2017) को "इंसान की सच्चाई" (चर्चा अंक 2682) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. क्या पता लिख ली गई हो सामने रखने का अवसर तलाशा जा रहा हो ..

    ReplyDelete
  3. हर इंसान की दिली ख़्वाविश होती हैं किसी एक के लिए वो खासमखास हो...कोई बात तो हो जो वो सिर्फ उसी के लिए कहे... उसीके लिए करे...इसी भावना को बहुत ही खुबसुरती से पेश किया हैं आपने...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  5. बहुत ही खुबसुरती से पेश किया

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...