चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Monday, December 30, 2013

कसम



कसम

कसम खाई थी दोनों ने,
एक ने अल्लाह की-
एक ने भगवान की-
दोनों ही डरते थे,
अल्लाह से भगवान से
मगर...
उससे भी अधिक डर था उन्हें
खुद के झूठे हो जाने का,
उस पाक परवर दिगार से-
मुआफ़ी माँग ली जायेगी
कभी भी
अकेले में॥

11 comments:

  1. आखिर, वो मांफ भी कर जो देता है !
    ये तो इंसान ही है जो भूल नहीं पाता !

    ReplyDelete
  2. उससे भी अधिक डर था उन्हें
    खुद के झूठे हो जाने का
    good and nice line. thanks

    ReplyDelete
  3. आपकी लिखी रचना बुधवार 01/01/2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर.......नव वर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  5. अपने आप से छुपना मुश्किल होता है ...
    नव वर्ष की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  6. भावो की
    बेहतरीन........आपको भी नववर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. हार्दिक शुभकामनाएं ..

    ReplyDelete
  8. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर ,और उम्दा अभिव्यक्ति...बधाई...

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...