चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Friday, July 20, 2007

क्यों आते है गम हर रोज






क्यों आते है गम
हर रोज
जिन्दगी में
क्योंकि तुम बुलाते हो,

मगर कैसे
कौन चाहेगा दुखी होना
गम से सराबोर जिन्दगी
किसे पसंद है

मगर यही सच है
तुम्ही बुलाते हो
याद रखते हो हर पल
पिता का वो चाँटा
जो लगाया था तुम्हारी नादानियों पर,
या गुरू की वो फ़टकार
जो कभी लगाई थी तुम्हारी शैतानियों पर,


मगर भूल जाते हो,
पिता के दुलार को,
गुरू के आशीर्वाद को,
जो दिया था कभी
तुम्हारी हर कामयाबी पर,


हर कड़वी बात याद रहती है
अपने अज़ीज की तरह
सोचो
जिससे इतनी चाहत है
हर पल अहसास है जिसका
वो भला क्यों नही आयेंगे

खड़े रहेंगे तुम्हारे दरवाजे पर
मेहमान बनकर
जब भी बुलाओगे
चले आयेंगे
आने का प्रयोजन
मै तुम्हारे हर पल साथ हूँ
तुम भी तो मुझे भूलते नही
खुशी के क्षणों में भी
तो मै बेवफ़ा कैसे हो सकता हूँ
जब भी बुलाओगे दौड़ा चला आऊँगा


और आना कैसा मै तो रहता हूँ
दिल में तुम्हारे
जरा गौर से देखो
गमों ने तुम्हारे दिल को छलनी कर दिया है
जैसे कि दीमक
मन की दिवारों को खा गई हो
आलस्य बढ़ता जाता है,
चारों और बेचारगी ओर तनहाई का आलम है


ये सब मेरे मित्र है
जब भी आता हूँ
इन्हे भी साथ ही लाता हूँ


इतना बेगैरत नही हूँ


"जब बुलाते हो
तब ही आता हूँ"

सुनीता(शानू)



20 comments:

  1. "हर कड़वी बात याद रहती है
    अपने अज़ीज की तरह
    सोचो
    जिससे इतनी चाहत हैहर पल अहसास है जिसका
    वो भला क्यों नही आयेंगे
    खड़े रहेंगे तुम्हारे दरवाजे पर
    मेहमान बनकर"

    बडे सुन्दर भाव हैं, पूरी कविता एक बार में पढ गया और फ़िर कई बार पढी ।

    गालिबजी कह गये हैं,
    उल्मत कदे में मेरे शब-ओ-गम का जोश है,
    इस शम्मा रह गयी है सो वो भी खामोश है ।
    और एक जगह कहते हैं,
    हुआ जब गम से यूँ बेहिस तो गम क्या सर के कटने का,
    न होता गर जुदा तन से तो जानों पर पडा होता ।

    आपने एक नये तरीके से व्याख्या दी है,
    साधुवाद स्वीकार करें,

    ReplyDelete
  2. बहुत बढिया रचना।

    ReplyDelete
  3. इतना बेगैरत नही हूँ
    "जब बुलाते हो
    तब ही आता हूँ"

    ---बस, गमों की यही हालत है और आपने बहुत खूब पकड़ा है. बहुत सुन्दरता से उनकी तबियत को चित्रित किया है. बधाई. लिखती रहें.

    ReplyDelete
  4. गम पर आधारित आपकी यह कविता पढ़कर मुझे यह गीत याद आ गया--" तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो, क्या गम है जिसे छिपा रहे हो"।

    लगता है गहन चिंतन के बाद लिखी हैआपने यह रचना, इस शानदार अभिव्यक्ति के लिए बधाई!!
    आभार!

    ReplyDelete
  5. गम, दुख कविता का स्‍थाई भाव है इसके साथ कविता अपने वास्‍तविक रूप में प्रकट होती है । आपका चित्रण जीवंत है । बधाई हो कविता के हर पहलुओं में सिद्धस्‍थता के लिए ।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी कविता है दो लाईने ये भी देखिये,,ये मेरी है..:)
    गजल में बंदिश-ओ-अलफाज ही नहीं काफी
    जिगर का खून भी चाहिए कुछ असर के लिये
    उम्र गुजरना ही जिन्दगी मे नही काफ़ी,
    दिल मे कोई दर्द भी चहिये इस सफ़र के लिये
    हर किसी को नही मिलती यहां खुशिया साकी,
    शमा भी ढूढती है रात का आँचल यँहा जलने के लिये

    ReplyDelete
  7. जी बिल्कुल सटीक... अकसर हम दुखों को याद रखते हैं और सुखों को भूल जाते हैं... शायद छोटे छोटे खुशी के पलों का हम हिसाब ही नहीं रखना चाहते यही दुख का मूल कारण हैं

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छे प्रकार से व्यक्त किया है आपने भावों को। बहुत-बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  9. गम ,दुःख का इतना संतुलित चित्रण करने के लिए आप की जितनी तारीफ की जाये कम है।
    और यही जीवन है।

    ReplyDelete
  10. bahut khoob kaha apney

    मगर यही सच है
    तुम्ही बुलाते हो
    याद रखते हो हर पल
    पिता का वो चाँटा
    जो लगाया था तुम्हारी नादानियों पर,
    या गुरू की वो फ़टकार
    जो कभी लगाई थी तुम्हारी शैतानियों पर,



    मगर भूल जाते हो,
    पिता के दुलार को,
    गुरू के आशीर्वाद को,
    जो दिया था कभी
    तुम्हारी हर कामयाबी पर,


    dil ko chu gayi apki yeh panktiyan

    ReplyDelete
  11. शानू जी,बहुत बढिया भावपूर्ण रचना है। बहुत सही कहा है-

    "हर कड़वी बात याद रहती है
    अपने अज़ीज की तरह
    सोचो
    जिससे इतनी चाहत हैहर पल अहसास है जिसका
    वो भला क्यों नही आयेंगे
    खड़े रहेंगे तुम्हारे दरवाजे पर
    मेहमान बनकर
    जब भी बुलाओगे चले आयेंगेआने का प्रयोजनमै तुम्हारे हर पल साथ हूँ"

    ReplyDelete
  12. और आना कैसा मै तो रहता हूँ
    दिल में तुम्हारे
    जरा गौर से देखो


    वाह कितनी खूबसूरती से गमों को जीने का अंदाज बयां किया है। बहुत बहुत बधाई । एक नया एहसास, नई विविधता आपकी कविता में देखने को मिली है। और नई उँचाइयॉं छूने की शुभकामना के सा‍थ।

    ReplyDelete
  13. AAP NE SAHI KAHA HAI
    AUR AANA KAISA MAI TO REHTA HU DIL ME TUMHARE YE BAAT SAHI HAI HUM AKSAR GUM KO DIL ME HAMESHA HI RAKHTE HAIN
    ITS A VERY NICE POEM KEEP IT UP !!!!

    ReplyDelete
  14. वाह सुनीता जी!
    आप तो दर्शन-साहित्य को भी काव्य में इतनी सहजता से पिरोती हैं कि वह भी सामान्य पाठकों के लिये सुग्राह्य हो जाता है.
    बहुत ही सुंदर भाव और उतने ही सुंदर शब्द. बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  15. aacha laga yahaan phir se aakar....
    aacha likha hai aapne....likhti rahiye...

    ReplyDelete
  16. मेरे अनुभव तो बहुत उलटे हैं आपसे । विशेषरूप से जो आपने उदाहरण लिये हैं। दीर्घकालिक सत्यता यह है कि गुरु का ज्ञान याद रहता है और पिता की पुचकार। क्षणिक अहसास आपका वाला हो सकता है।

    ReplyDelete
  17. हमेशा की तरह बेहतरीन चिंतनशील रचना…।
    क्या हो शानू जी…दर्द ज्यादा जहाँ भी होता है वह लम्बे समय तक याद रह जाता है… तमाचा अगर धीमें लगायें तो फिर शोध हो…नहीं :)

    ReplyDelete
  18. मगर यही सच है
    तुम्ही बुलाते हो
    याद रखते हो हर पल
    पिता का वो चाँटा
    जो लगाया था तुम्हारी नादानियों पर,
    या गुरू की वो फ़टकार
    जो कभी लगाई थी तुम्हारी शैतानियों पर,



    मगर भूल जाते हो,
    पिता के दुलार को,
    गुरू के आशीर्वाद को,
    जो दिया था कभी
    तुम्हारी हर कामयाबी पर,



    हर कड़वी बात याद रहती है
    अपने अज़ीज की तरह
    सुनीता जी इस कविता के साथ आपकी कवितायी को एक नया आयाम मिल है .......एक अलग अंदाज़ एक अलग तरह कि अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  19. aapki kavita dil chu gayi.. kasak hei aapke sabdo mei.

    Kya aapko www.shayeri.net/board per invite karne ki ijaazat milegi?

    Khushi hogi shayaro ki mehfil mei aap jaisi sakhsiyat ko dekh kar!

    Sukhriya

    ReplyDelete
  20. padh kar laga ki ek jaise hi vicharo ne alag alag shabdo ka roop le liya ho...
    par aapki kavita dil choo gayi

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...