चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Sunday, May 13, 2007

मेरी माँ


मेरी माँ

माँ बनकर ये जाना मैनें,
माँ की ममता क्या होती है,
सारे जग में सबसे सुंदर,
माँ की मूरत क्यूँ होती है॥


जब नन्हे-नन्हे नाजु़क हाथों से,
तुम मुझे छूते थे...
कोमल-कोमल बाहों का झूला,
बना लटकते थे...
मै हरपल टकटकी लगाए,
तुम्हें निहारा करती थी...


उन आँखों में मेरा बचपन,
तस्वीर माँ की होती थी,
माँ बनकर ये जाना मैनें,
माँ की ममता क्या होती है॥


जब मीठी-मीठी प्यारी बातें,
कानों में कहते थे,
नटखट मासूम अदाओं से,
तंग मुझे जब करते थे...
पकड़ के आँचल के साये,
तुम्हें छुपाया करती थी...


उस फ़ैले आँचल में भी,
यादें माँ की होती थी...
माँ बनकर ये जाना मैनें,
माँ की ममता क्या होती है॥


देखा तुमको सीढ़ी दर सीढ़ी,
अपने कद से ऊँचे होते,
छोड़ हाथ मेरा जब तुम भी
चले कदम बढ़ाते यों,
हो खुशी से पागल मै,
तुम्हे पुकारा करती थी,



कानों में तब माँ की बातें,
पल-पल गूँजा करती थी...
माँ बनकर ये जाना मैनें,
माँ की ममता क्या होती है॥



आज चले जब मुझे छोड़,
झर-झर आँसू बहते हैं,
रहे सलामत मेरे बच्चे,
हर-पल ये ही कहते हैं,
फ़ूले-फ़ले खुश रहे सदा,
यही दुआएँ करती हूँ...



मेरी हर दुआ में शामिल,
दुआएँ माँ की होती हैं,...
माँ बनकर ये जाना मैने,
माँ की ममता क्या होती है॥


सुनीता(शानू)

39 comments:

  1. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति. माँ की ममता को शब्दों में बाँधना संभव नहीं. आपने बहुत खूबसुरती से भाव उकेरे हैं, नमन!!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर कविता लिखी है आपने

    ReplyDelete
  3. ak beti ki bhavnao ki isse sundar abhiyakti or kya ho sakti he .

    ReplyDelete
  4. मॉं का नाम आते ही, सच मे संसार का सबसे प्‍यारा रिस्‍ता याद आ जाता है। एक मॉं अपने बच्‍चे का लाख पीड़ा के बाद भी जन्‍म देना चहती है। यह उसे अपनी संतान के प्रति प्रेम को दर्शाता है।

    अनुपम कृति के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  5. माँ की ममता याद दिलाने वाली एक सुंदर कविता। इतनी सुंदर कविता रचने के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  6. सुंदर अभिव्यक्ति.....
    सुंदर भाव ......
    सुन्दर कविता ....
    बधाई।

    ReplyDelete
  7. सुनीता जी इस धरा की जननी के लिये जो उदगार आपके कोमल ह्रदय से निकले हैं वे बहुत मर्मस्पर्शी
    हैं बहुत सुन्दर शब्दों में आपने अपनी सशक्त लेखनी द्वारा ममत्व के मह्त्त्व पर प्रकाश दाला हैं इसके लिये आप निश्चित रूप से बधाई की पात्र हैं

    ReplyDelete
  8. सुंदर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर कविता! बहुत सुन्दर फोटो!

    ReplyDelete
  10. hi Real aapne Maa ko sunder shabdoo me dhaal diya..hai...congrats..

    ReplyDelete
  11. सच इसे पढकर जाना कि पुरुष किस खुशी से वंचित है, वाकई मन को छूने वाली और एक लालसा जगाने वाली कविता है यह, जो हर पुरुष के मन में एक खाली जगह छोडती है

    ReplyDelete
  12. अति सुन्दर रचना है।बधाई।

    ReplyDelete
  13. माँ बनकर ये जाना मैनें,
    माँ की ममता क्या होती है,
    सारे जग में सबसे सुंदर,
    माँ की मूरत क्यूँ होती है॥

    भावुक मन की सरल एवं निर्दोष भावनाओं वाली माँ की कविता अच्छी लगी

    ReplyDelete
  14. सुन्दर अभिव्यक्ति,मन को छूने वाली कविता है

    ReplyDelete
  15. hi mum, apne bahut hi sweet line likhi hai es "duniya ki sabse payari mum ke liye" apki es poem ne meri late mother ki yado ko taja kar diya hai. I m very very miss our late mother todays. thnks for sweet poems.
    Sanju

    ReplyDelete
  16. शानू जी
    सचमुच आपने बहुत ही अच्छी कविता लिखी है
    मां का प्यार एक अनुभूति है जिसे महसूस किया जा सकता है आपने उसे शव्दो का रूप दिया साधुवाद ! अपने बच्चे को आचल से छुपाते हुए अपने आप एव अपनी मा को याद करना एव निष्छल आशिर्वाद देना सुखद अनुभुति है । ममत्व नारी की वेदना पर प्रेम की जीत है । ममत्व एसा प्रेम है जो प्रेमी के प्रेम को भूला देती है और यह अहुभूति मा बनकर ही जाना जा सकता है । आपने उत्कृष्ठ प्रयाश किया है वो भी एसे विषय पर जो प्रेम का मूल है ।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर कृति ! बधाई!

    ReplyDelete
  18. शानू जी बिलंव के लिये माफ़ करें क्योंकि में दो दिन ओनलाईन नही हुआ.

    बहुत सुन्दर विषय है और उतनी ही सुन्दर कविता है..
    "मां ही गंगा, मां ही जमुना, मां ही तीरथ धाम
    मां का सर पर हाथ जो होवे, क्या ईश्वर का काम"

    ReplyDelete
  19. सुंदर कविता है , मां होना क्या होता है ये सचमुच मां बनने के बाद ही किसी स्त्री को ठिक से मालुम हो सकता है और हम पुरुष तो उस अहसास को कभी भी नही पा सकते मात्र वंदना ही कर सकते है मां की |

    ReplyDelete
  20. BAHUT KHUB
    AAPKI KAVITA ME JAAN HAI !
    I AM IMPRESSED

    ReplyDelete
  21. कभी सुनहली धूप है,
    कभी गौधुली शाम है जिंदगी,..

    शुक्रिया...आपका ब्लॉग देखा
    मा पर बहुत मार्मिक कविता लिखी है आपने...बधाई

    ReplyDelete
  22. सभी लोग बहुत कुछ लिख चुके हैं, मैं तो सिर्फ़ यही कहूँगा कि आप बेहतरीन कवियित्री हैं..ऐसे ही जारी रखें.. राजनीति और घटनाओं पर लिख-लिख कर हमारी कलम तो भोथरी हो चुकी है, कोमल भावनायें उकेरना हमारे बस की बात नहीं, लेकिन आप जैसों का सान्निध्य रहेगा तो शायद वह भी सीख जायें... आमीन..

    ReplyDelete
  23. ur poem is so nice ,so lovely on this beautiful word and relation keep writing .................and now I am giving the comment to ur poem.......

    ReplyDelete
  24. जब हम याद करते है अपनी माँ तो उसके हर स्पर्श को सहलाते हैं पर जब यह तस्वीर उलट जाती है तो सारी अभिव्यक्ति भी अपने स्थान से दूसरे मनोविज्ञान की ओर खिंचती है…।बहुत सुंदर मनोवैज्ञानिक विश्लेषण है इस कविता में जो उस ओर की करूणा को निकट लाती है…बधाई…।

    ReplyDelete
  25. bahut hi achhi kavita hai,
    maa ko kuchh shbdon main simetna sahas ka kaam hai.

    ReplyDelete
  26. माँ की जि‍तनी तारीफ की जाए कम है, कवि‍ता मनोरम है। बधाई

    ReplyDelete
  27. lot of thanks to u Sunitaji it was such a wonderful poem....i really appriciated.....i think u r a mother coz a mother known fellings of mother lov......thanks for the beautiful poem likes u...i promise u that i'll read all the lines in front of my mom n i am sure she is impress......thaks again........

    Regards,
    Aditya

    ReplyDelete
  28. आपकी ममता की अभिव्यक्ति सुन्दर है.
    और कविता अपनी बात कहने में सफल.
    श्रेय आपके ममत्व और आपकी लेखनी को.
    साभार्
    सिद्धार्थ

    ReplyDelete
  29. अनुपम, मनमोहक चित्र और हृदय को उद्वेलित करते भाव, सटीक शब्द चयन... बधाई!

    ReplyDelete
  30. सबने इतना कहा है मैं क्या कहूं..बस ये की एक स्त्री के लिये मां बनना.. खुद की पूर्णता को पाने के समान है.. और तभी हम सम्झ पाते हैं अपनी मां को.. और तभी और जुड़ जाती हैं बेतियां मां से..

    ReplyDelete
  31. बहुत ख़ूब लिखा है आपने।
    अत्यंत मर्मश्पर्शी कविता है।
    नमन है आपको।

    ReplyDelete
  32. बहुत ही सुन्दर कविता।
    भाव दिल को छू गए।

    ReplyDelete
  33. माँ बनकर ये जाना मैनें,
    माँ की ममता क्या होती है,
    सारे जग में सबसे सुंदर,
    माँ की मूरत क्यूँ होती है॥
    पहली बार आपके ब्‍लाग पर आया। सारी कवितायें पढ़ी ऊपर से नीचे तक।
    एक गहरी सी टीस के साथ आपका कवि यात्रा में है। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  34. bahut hee sundar kavita likhee hai..maa ka perspective bahut acchhca diya hai aapne.

    ReplyDelete
  35. माँ ने जिन पर कर दिया, जीवन को आहूत
    कितनी माँ के भाग में , आये श्रवण सपूत
    आये श्रवण सपूत , भरे क्यों वृद्धाश्रम हैं
    एक दिवस माँ को अर्पित क्या यही धरम है
    माँ से ज्यादा क्या दे डाला है दुनियाँ ने
    इसी दिवस के लिये तुझे क्या पाला माँ ने ?

    ReplyDelete
  36. आपमें एक बहुत प्यारा गीतकार बसा है , कृपया गीत नियमित तौर पर लिखा करें...यह रचना इतनी प्यारी लगी कि अपनी लय में कोशिश की है शायद आप पसंद करें !
    आपको और पवन भाई को नमस्कार !

    माँ बनकर यह जाना मैंने
    माँ की ममता क्या होती है !
    सारे जग में सबसे सुंदर
    माँ की सूरत क्यों होती है !
    उन आँखों में खुद को पाकर , मैं भौचक हो जाती थी !

    नन्हें नन्हे नाज़ुक हाथों
    जब तुम मुझको छूते थे
    कोमल कोमल बांहों का
    तुम झूला बना लटकते थे
    मैं हर पल टकटकी लगाए , तुम्हें निहारा करती थी !

    देखा तुमको धीरे धीरे
    मेरे कद से लम्बे होते
    मुझे याद है, जब पहले
    दिन उंगली मेरी छोड़ी थी
    डगमग उठते कदम देख कर मैं पागल हो जाती थी !

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...