चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Saturday, September 17, 2011

मन को मनाने के अंदाज निराले है


बस एक छोटी सी कोशिश...


मन को मनाने के अंदाज निराले है
हुए नही वो हम ही उसके हवाले हैं

उसने कसम दी तो न पी अभी तक
हाथ में पकड़े लो खाली प्याले है

दिल की बात जुबां पर लाये भी कैसे
ये भीड़ नही बस उसके घरवाले हैं

बात छोटी सी भी वो समझे नही
चुप रहेंगे भला जो कहने वाले हैं

इन्तजार की भी होती है हद दोस्तों
रूक न पायेंगे हम जो मतवाले हैं॥


सुनीता शानू

56 comments:

  1. बात छोटी सी भी वो समझे नही
    चुप रहेंगे भला जो कहने वाले हैं
    खुबसूरत शेर ,क्या बात है हर शेर लाजबाब , वाह वाह.....

    ReplyDelete
  2. मतवाले चुप नही रहेंगे
    sundar bahut kuchh kahtee hai aapkee lekhnee

    ReplyDelete
  3. मन को मानाने के अंदाज़ सच ही निराले होते हैं ... आज कल कहाँ मन भटक रहा है ? सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बात छोटी सी भी वो समझे नही
    चुप रहेंगे भला जो कहने वाले हैं

    बढ़िया रचना प्रस्तुति है ... आभार

    ReplyDelete
  5. मन को मनाने के अंदाज निराले है
    हुए नही वो हम ही उसके हवाले हैं

    वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर गज़ल्।

    ReplyDelete
  7. उसने कसम दी तो न पी अभी तक
    हाथ में पकड़े लो खाली प्याले है

    वाह वाह जी वाह । इच्छ शक्ति ऐसे ही मज़बूत होती है ।
    बहुत बढ़िया अंदाज़ ।

    ReplyDelete
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  9. बात छोटी सी भी वो समझे नही
    चुप रहेंगे भला जो कहने वाले हैं

    बेजोड़ पंक्तियाँ ...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  10. आज आपका ब्लॉग पहली बार नई पुरानी हलचल के माध्यम से देखा. अच्छा लगा.MEGHnet

    ReplyDelete
  11. सने कसम दी तो न पी अभी तक
    हाथ में पकड़े लो खाली प्याले है

    वाह! सुन्दर....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन.......वाह!!

    ReplyDelete
  13. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (९) के मंच पर प्रस्तुत की गई है आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/आप हमेशा अच्छी अच्छी रचनाएँ लिखतें रहें यही कामना है /
    आप ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर सादर आमंत्रित हैं /

    ReplyDelete
  14. bahut sunder blog hai aapka yahan aakar bahut sukun mila...nice post..

    ReplyDelete
  15. उसने कसम दी तो न पी अभी तक
    हाथ में पकड़े लो खाली प्याले है
    ...........isi me zindagi ka falsafaan hai.....par log galat erth nikalte hai....

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  17. अच्छी ग़ज़ल ..... हरेक शेर बढ़िया

    ReplyDelete
  18. सभी शेर अलग अलग अंदाज़ लिए बहुत खूबसूरत हैं ... ये शेर खास लगा ...

    बात छोटी सी भी वो समझे नही
    चुप रहेंगे भला जो कहने वाले हैं

    ReplyDelete
  19. उसने कसम दी तो न पी अभी तकहाथ में पकड़े लो खाली प्याले है
    ........बहुत बढ़िया अंदाज़ ।

    ReplyDelete
  20. ननिहाल की कुछ यादें 
    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है
    संजय भास्कर
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  21. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  22. मन को मनाने के अंदाज निराले है
    हुए नही वो हम ही उसके हवाले हैं

    दिल की बात जुबां पर लाये भी कैसे
    ये भीड़ नही बस उसके घरवाले हैं

    इन्तजार की भी होती है हद दोस्तों
    रूक न पायेंगे हम जो मतवाले हैं॥
    Bahut shunder rachna ek ek shabd jaise sach ho.......Sarwbhaumik ..bahut pasand aayee.. isi tarah likhty rahe aap sada.

    Deepotsav ki aseem shubhkamnawon sahit

    ReplyDelete
  23. बहुत ही उम्दा ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  24. इन्तजार की भी होती है हद दोस्तों
    रूक न पायेंगे हम जो मतवाले हैं॥

    सुनीता जी, आप लाजबाब लिखतीं हैं.

    पर आपके आने की इंतजार में
    हम तो बेक़रार हैं ,जी.

    सोच रहा हूँ अब लिखना बंद ही कर दिया जाये.

    ReplyDelete
  25. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 3 - 11 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...

    ReplyDelete
  26. आपके सफल ब्लॉग के लिए साधुवाद!
    हिंदी भाषा-विद एवं साहित्य-साधकों का ब्लॉग में स्वागत है.....
    कृपया अपनी राय दर्ज कीजिए.....
    टिपण्णी/सदस्यता के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें....
    http://pgnaman.blogspot.com
    हरियाणवी बोली के साहित्य-साधक अपनी टिपण्णी/सदस्यता के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें....
    http://haryanaaurharyanavi.blogspot.com

    ReplyDelete
  27. आपके सफल ब्लॉग के लिए साधुवाद!
    हिंदी भाषा-विद एवं साहित्य-साधकों का ब्लॉग में स्वागत है.....
    कृपया अपनी राय दर्ज कीजिए.....
    टिपण्णी/सदस्यता के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें....
    http://pgnaman.blogspot.com
    हरियाणवी बोली के साहित्य-साधक अपनी टिपण्णी/सदस्यता के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें....
    http://haryanaaurharyanavi.blogspot.com

    ReplyDelete
  28. आपकी किसी पोस्ट की हलचल है ...कल शनिवार (५-११-११)को नयी-पुरानी हलचल पर ......कृपया पधारें और अपने अमूल्य विचार ज़रूर दें .....!!!धन्यवाद.

    ReplyDelete
  29. यह जानकारी टिप्पणी बटोरने हेतु नही है बस यह जरूरी लगा की आपको ज्ञात हो आपकी किसी पोस्ट का जिक्र यहाँ किया गया है कृपया अवश्य पढ़े आज की ताज़ा रंगों से सजीनई पुरानी हलचल

    ReplyDelete





  30. आदरणीया सुनीता शानू जी
    सस्नेहाभिवादन !

    मन को मनाने के अंदाज निराले है
    हुए नही वो हम ही उसके हवाले हैं


    वाऽऽह ! अच्छा अंदाज़ है कहने का …
    ख़ूबसूरत रचना के लिए आभार !

    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  31. सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  32. उसने कसम दी तो न पी अभी तक
    हाथ में पकड़े लो खाली प्याले है

    bahut khoob ....

    ReplyDelete
  33. बहुत सुंदर

    मन को मनाने के अंदाज निराले है
    हुए नही वो हम ही उसके हवाले हैं

    आपको पढना वाकई अच्छा लगता है

    ReplyDelete
  34. सुनीता जी अपनी हलचल से
    आपने फिर से यहाँ पहुचाया .
    सितम्बर से नया नही कुछ,
    आधा नवम्बर होने को आया

    फिर भी शान से कहत हो शानू जी

    'जो मचाइबे हलचल हमार कोई का करिहे?'

    यह कैसा अंदाज है मन को मनाने का.

    ReplyDelete
  35. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है ... नयी पुरानी हलचल कल शनिवार 19-11-11 को | कृपया पधारें और अपने अमूल्य विचार ज़रूर दें...

    ReplyDelete
  36. कहतें है कि यह दुनिया गोलमगोल है.
    यह पोस्ट भी सच में बहुत अनमोल है.

    कभी अनुपमा जी की हलचल से
    और कभी आपकी हलचल से यहीं
    चला आता हूँ.

    मन को मनाने का अंदाज फिर फिर
    पढकर ठिठक जाता हूँ.

    सुनीता जी, अब कुछ तो रहम कीजिये
    बात कुछ आगे बड़े वह शुभ कर्म भी कीजिये.
    माना कि बहुत बहुत व्यस्त रहतीं है आप
    पोस्ट लिख कर एक और,हरिये अब मेरा संताप.

    ReplyDelete
  37. मन को मनाने के अंदाज निराले हैं
    खट्टे हैं अंगूर या फिर मुँह में छाले हैं.
    :)

    ReplyDelete
  38. बात छोटी सी भी वो समझे नही
    चुप रहेंगे भला जो कहने वाले हैं

    बहुत सुंदर प्रस्तुती /एक एक पंक्ति लाजबाब है /बहुत बधाई आपको /
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है जरुर पधारें /

    www.prernaargal.blogspot.com

    ReplyDelete
  39. हलचल... हलचल... हलचल...
    कभी सुनीता जी की
    कभी अनुपमा जी की
    कभी संगीता जी की

    पर मजाल की यह पोस्ट टस से मस भी हो.
    अंगद के पैर की तरह जम गई है
    आखिर क्यूँ न जमें,आपकी चाय जो खूब बिक रही है जी.

    लगे रहो मुन्ना भाई ...नही नही सुनीता बहिन.

    समय मिले तो मेरी नई पोस्ट पर जरूर आईयेगा.

    हनुमान लीला पर आपका इंतजार है जी.

    ReplyDelete
  40. हलचल... हलचल... हलचल...
    कभी सुनीता जी की
    कभी अनुपमा जी की
    कभी संगीता जी की

    पर मजाल की यह पोस्ट टस से मस भी हो.
    अंगद के पैर की तरह जम गई है
    आखिर क्यूँ न जमें,आपकी चाय जो खूब बिक रही है जी.

    लगे रहो मुन्ना भाई ...नही नही सुनीता बहिन.

    समय मिले तो मेरी नई पोस्ट पर जरूर आईयेगा.

    हनुमान लीला पर आपका इंतजार है जी.

    ReplyDelete
  41. अंतस के भावों से सुंदर शब्दों में पिरोयी गयी आपकी रचना बेहद ही अच्छी लगी । मरे नए पोस्ट "आरसी प्रसाद सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  42. Ati sundar.. ek achchi koshish.. khoobsurat prayaas...
    mangal-kaamnaayen

    ReplyDelete
  43. सुन्दर भाव .मनभावन रचना बधाई .

    ReplyDelete
  44. बात छोटी सी भी वो समझे नही
    चुप रहेंगे भला जो कहने वाले हैं
    इन्तजार की भी होती है हद दोस्तों
    रूक न पायेंगे हम जो मतवाले हैं॥

    सोचा था कुछ नया मिलेगा अबकी बार
    पर'उफ़'आपकी चाय ने लगता है जकड रक्खा है
    'हास्य सम्मलेन' में खूब बिखेरियेगा जलवे
    हमने भी आपकी इसी पोस्ट को ही पकड़ रक्खा है

    ReplyDelete
  45. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  46. संगीता जी की हलचल से मैं यहाँ हूँ.
    आप क्यूँ नही आई अब तक मेरी
    पोस्ट 'हनुमान लीला भाग-२' पर अब तक.

    क्या नए साल में झूंठा वादा मन को मनाने का निराला अंदाज होगा ?

    ReplyDelete
  47. क्या कहूँ इतनी सुन्दर गजल ..कि शब्द नहीं ..आभार

    ReplyDelete
  48. उसने कसम दी तो न पी अभी तक
    हाथ में पकड़े लो खाली प्याले है

    दिल की बात जुबां पर लाये भी कैसे
    ये भीड़ नही बस उसके घरवाले हैं
    Vah sunita ji ... ak prabhavshali gazal ke liye abhar .

    ReplyDelete
  49. नीले फ़लक पे लिक्खे बादल के रिसाले हैं
    अंदाजे बायाँ आपके क्या खूब निराले हैं

    .... बहुत दिन बाद आपके ब्लॉग पर आना हुआ... मेरा अभिनंदन स्वीकारें।

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...