चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Monday, March 9, 2009

होली मुबारक हो



ओढ़ चुनर सतरंगी
जो बदला रंग धरती का
नीला हठीला आसमां भी
अचानक हो गया रंगीन
कि आज होली है...


चाँदी से उजले मतवाले बादल
ज्यौं बिनौलों से गुथे हुए
चमकीले रूई के फ़ूल
कि अभी-अभी
निकल भागी है उजली कपास
कि आज होली है...


दूर कहीं कलरव करती
चली परिन्दों की बरात
बजी बाँस में शहनाई सी
बह चली महकती
रंगीन पुरवाई
कि आज होली है...


और कहीं छाई है लाली
जैसे गोरी का सिन्दुरी रूप
कहीं सरसों के बागानों सी
चिलचिलाती धूप
खिलखिलाई
कि आज होली है...


पूरब ने पश्चिम में फ़ेंका
एक दहकता लाल गुब्बारा
चोट लगी पर काम तो आया
ढलता सूरज मुस्काया
हर पल जीवन हो सतरंगी
कि आज होली है...


सुनीता शानू

27 comments:

  1. Waah ! Bahut hi sundar shabd chitran kiya hai aapne..Sundar rangbhari kavita...

    Aapko sapariwaar holee kee shubhkaamnaye.

    ReplyDelete
  2. बाकी सब तो सुंदर है

    पर गुब्‍बारा फेंक कर

    काम किया जाने का

    अंदर है

    गुब्‍बारों पर रोक है।

    ReplyDelete
  3. सुनीता जी होली की बधाई । सुन्दर अति सुन्दर ये रचना ।

    ReplyDelete
  4. बढ़िया रचना!!

    होली महापर्व की बहुत बहुत बधाई एवं मुबारक़बाद !!!

    ReplyDelete
  5. अद्भुत रचना...वाह.
    होली की ढेरों रंग बिरंगी शुभकामनाएं.
    नीरज

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचना,
    होली की ढेरों रंग बिरंगी शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  7. बहुत ही खूबसूरत पंक्तियाँ लिखी हैं आपने। सुनीता जी आपको होली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  8. पूरब ने पश्चिम में फ़ेंका
    एक दहकता लाल गुब्बारा
    चोट लगी पर काम तो आया
    ढलता सूरज मुस्काया
    हर पल जीवन हो सतरंगी
    कि आज होली है...
    waah atusunder,holi mubarak

    ReplyDelete
  9. Mujhe to bas itna hi samajh aaya ki---
    कि आज होली है...

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना..

    होली की शुभकामनाऐं..

    ReplyDelete
  11. होली पर्व का अब मज़ा आया आपको सपरिवार शुभकामनाएँ + बहुत बधाई
    - लावण्या

    ReplyDelete
  12. अनुपम रंगों की बौछार

    करती रचना के लिये

    आपका आभार

    हमारी ओर से बधाई करें स्वीकार

    ReplyDelete
  13. अति सुंदर रचना.
    आपको और आपके परिवार को होली की रंग-बिरंगी ओर बहुत बधाई।
    बुरा न मानो होली है। होली है जी होली है

    ReplyDelete
  14. सुनीताजी शुभ होली।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर ... होली की ढेरो शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर !
    होली की शुभकामनाएँ !
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  17. सुन्दर....होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  18. badhiya rachna Sunita ji aap ko bhi holi ke dher saari shubhkaamnaayein

    ReplyDelete
  19. बादलों की उपमा कपास के फूल से ,परिंदों का झुंड बारात ,बांस में बांसुरी के वजाय शहनाई ,चिलचिलाती धूप की तुलना सरसों के बागानों से ,चारों ओर प्रकृति विखेर दी

    ReplyDelete
  20. aap to bahut achchha likhti hain.keep it up dear.

    ReplyDelete
  21. लगातार लिखते रहने के लि‌ए शुभकामना‌एं
    सुन्दर रचना के लि‌ए बधा‌ई
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    http://www.rachanabharti.blogspot.com
    कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लि‌ए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है
    http://www.swapnil98.blogspot.com
    रेखा चित्र एंव आर्ट के लि‌ए देखें
    http://chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. ब्लोगिंग जगत में स्वागत है
    लगातार लिखते रहने के लि‌ए शुभकामना‌एं
    सुन्दर रचना के लि‌ए बधा‌ई
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    http://www.rachanabharti.blogspot.com
    कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लि‌ए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है
    http://www.swapnil98.blogspot.com
    रेखा चित्र एंव आर्ट के लि‌ए देखें
    http://chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  23. बहुत बाड़िया... वाकई मे पड़कर आनंद आगय..

    मे कुछ जान ना चाहता हूँ वो ये हे की.. आप कौनसी टाइपिंग टूल यूज़ करते हे…?

    रीसेंट्ली मे यूज़र फ्रेंड्ली टूल केलिए डुंड रहा ता और मूज़े मिला “क्विलपॅड”…..आप भी इसीका इस्तीमाल करते हे काया…?

    सुना हे की “क्विलपॅड” मे रिच टेक्स्ट एडिटर हे और वो 9 भाषा मे उपलाभया हे…! आप चाहो तो ट्राइ करलीजीएगा…

    http://www.quillpad.in

    ReplyDelete
  24. दीवाली आ रही है
    और
    आप अभी तक
    होली की मुबारकबाद ही बांट रही हैं
    कुछ पटाखे
    फुलझडि़या भी छोडि़ए

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...