चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Saturday, March 14, 2020

रुपायन में प्रकाशित...दोहे फ़ागुन के...


5 comments:

  1. होली पर इससे खूबसूरत और कुछ नहीं पढ़ा | एक दिन सामने रूबरू सुनेंगे आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां अजय 18 के बाद हम सब मिलते हैं, ब्लाग पर मीटिंग के लिए।

      Delete
  2. बढ़िया दोहे।
    कभी तो दूसरों के ब्लॉग पर भी अपनी टिप्पणी दिया करो।

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. अति सुंदर, सरस एवं मनोरंजक गीत। यह काव्य पढ़कर ही आनन्द उठा रहे हैं। क्योंकि कोरोना के भय से इस वर्ष होली-रंग-गुलाल के सारे कार्यक्रम बंद कर दिए गए।

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...