चाय के साथ-साथ कुछ कवितायें भी हो जाये तो क्या कहने...

Friday, July 10, 2020

अंतिम सत्य

9 comments:

  1. प्रेम को तलाशते नए अन्दाज़ ...
    पर शायद प्रेम दोनो में है थोड़ा थोड़ा ... वजह में और स्वार्थ में ..

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत ही बढ़िया
    अंतिम पंक्ति तो वाह

    ReplyDelete
  3. ओह ,वजहें मार देती हैं , उफ़ उफ्फ्फ | बहुत ही कमाल

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शनिवार 11 जुलाई 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. सच है ज़रूरतें स्वार्थी बना देती है। बहुत सुन्दर भाव।

    ReplyDelete
  6. जरूरते स्वार्थी बना देती है.......अच्छी रचना

    ReplyDelete
  7. bhut hi badiya post likhi hai aapne. Ankit Badigar Ki Traf se Dhanyvad.

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...

अंतिम सत्य